Daily Quotes

 

 

स्वयं को ज्ञानी समझना ठीक है परंतु दूसरो को मुर्ख समझने की मूर्खता हमें बिलकुल नही करनी चाहिए…क्योकि दूसरो को मुर्ख समझने वाला व्यक्ति कभी विद्वान नही हो सकता है…अतः हमे सभी से प्रेम करना चाहिए हम सब उस एक ईश्वर की संतान है…माँ भारती हमारी आराध्य ह और ये देश हमारा परिवार है…आत्मतरक्की व् राष्ट्र तरक्की ही एक मात्र हमारा उद्देश्य होना चाहिए…ॐ सुप्रभतम  16-09-2018

It is okay to think of yourself as a wise, but we must not fool everyone on the foolishness of thinking of others as a fool … because the person who understands others as a fool can never be a scholar … So we should love all of us all of that one God Children are … Mother Bharati is our adorable and this country is our family … Self-destination and nation’s advancement should be our sole aim … Best 16-09-2018

जीवन में लक्ष्य का क्या महत्व ह..?

जिस प्रकार बालक विशिष्ट उपलब्धि प्राप्त करने पर उत्सुकता पूर्वक अपनी भावनाओं को प्रकट करने हेतु अपने माता-पिता से मिलने के लिए व्याकुल हो परंतु उसका मार्ग उबड़ खाबड़ हो कंटक कीर्ण हो फिर भी वह उन कांटो की चुभन को सहजता पूर्वक सेंड करता हुआ पत्थरों से टकराकर चोट खाता हुआ आगे बढ़ता रहता है कांटो का दर्द तथा शरीर पर लगी चोट का उसे पता ही नहीं चलता क्योंकि उसके मन में तो अपने माता-पिता से मिलने की उत्कंठा है उसके सामने केवल एक ही लक्ष्य है अपने माता-पिता से मिलना इसलिए उसे दर्द का अनुभवही नहीं होता उसी प्रकार उसके जीवन का लक्ष्य निर्धारित होता है वह अपने जीवन में आने वाली प्रत्येक बाधा को श्रद्धा पूर्वक चयन करते हुए बिना रुके पूरे उत्साह के साथ आगे बढ़ता रहता है चरैवेति चरैवेति अंततोगत्वा वह अपने लक्ष्य तक पहुंच ही जाता है

अतः हमें लक्ष्य की ओर निरंतर अग्रसर होते हुए उसे अंत में विजय प्राप्त करनी है हमें अपने लक्ष्य को प्राप्त करने से पहले नहीं रुकना है
क्योंकि 
”कमजोर थकने पर रुकते हैं और विजेता जीतने पर”

ॐ  17/09 2018 

What is the significance of goal in life?

Just as the child is anxious to meet his parents eagerly to express his feelings on achieving a specific achievement, but his path becomes rugged, the thorn is still dry, though he is able to easily release the prick of the thorns with stones Striking a hurry hurts and hurts the thorns of the thorn and the injury on the body, he does not know, because in his mind his parents The desire to meet is only one goal in front of her meeting with her parents so she does not experience pain, in the same way her goal of life is determined, she will not stop without interrupting all the obstacles in her life, selecting it with reverence. With the full enthusiasm, Charaviti Charaviti goes on reaching its goal.

Therefore, while continuing to move towards the goal, we have to win in the end. We do not have to stop before achieving our goal.
Because
“Weak on weak tiredness and on winning the winner” 17/09 2018 

 

 

 

#जीवन में #दुःख #अशान्ति व् #तनाव का मुख्य कारण

अपनी प्रसुप्त शारीरिक, मानसिक, बौद्धिक, आध्यात्मिक व संगठित शक्ति का कभी भी कम आंकलन कर नहीं करना चाहिए क्योंकि अपना उचित मूल्यांकन न करने से ही हमारे अंदर बार-बार निराशा अविश्वास नकारत्मकता व् आत्मग्लानि जैसे भाव पैदा होता है…जो हमारे लिए, समाज के लिए और राष्ट्र के लिए बहुत बड़ा खतरा है…अतः सदैव हर परिस्थिति में हमें सकारात्मकता का ही वरण करना चाहिए..ॐ 18/09/2018

# The main reason for #set #resting and stress in life

Never underestimate its latent physical, mental, intellectual, spiritual, and organized power, because by not applying its proper assessment, we often develop feelings of unbelief denialism and self-indulgence … which is for us There is a great danger for the society and for the nation … So, in every circumstance, we should justify the positivism .. 18/09/2018